Bihar GK MCQ Questions in Hindi {मध्यकालीन इतिहास}

Bihar Gk MCQ Questions in Hindi
Bihar Gk MCQ Questions in Hindi

Bihar GK MCQ Questions in Hindi हेल्लो स्टूडेंट ! अगर आप Bihar GK की तैयारी कर रहे है तो हम आपके लिए मध्यकालीन इतिहास टॉपिक से सम्बंधित क्वेश्चन लेकर आये हैं| जहाँ पर आपको बहुत सारे Bihar GK MCQ Question मिलेंगे|

Bihar GK MCQ Questions in Hindi

1) बिहार के कर्नाट वंश के शासक हरिसिंह देव को पराजित करने वाला सुल्तान कौन था?

A) अलाउद्दीन खिलजी
B) गयासुद्दीन तुगलक
C) बलबन
D) फिरोजशाह तुगलक

Answer : B
Description : 1324 ई. में बंगाल अभियान से वापसी पर गयासुद्दीन तुगलक ने बिहार के कर्नाट वंश के सम्राट हरिसिंह को पराजित कर उसके राज्य पर अधिकार कर लिया। इस युद्ध में कर्नाट वंश का अंत हो गया तथा हरिसिंह कर्नाट वंश के अंतिम शासक साबित हुए। इस युद्ध के परिणामस्वरूप उत्तरी एवं दक्षिणी बिहार का एकीकरण हो गया तथा एक स्थानीय व्यक्ति अहमद को केन्द्रीय प्रतिनिधि नियुक्त किया गया।

2) सासाराम किसके मकबरे के लिए प्रसिद्ध है?

A) शेरशाह सूरी
B) हसन खां सूर
C) इस्लाम शाह
D) उपर्युक्त सभी

Answer : D
Description : सासाराम बिहार के रोहतास जिले में स्थित है। यह हसन खाँ सूर, शेरशाह तथा इस्लाम शाह के मकबरे के लिए प्रसिद्ध है। ये मकबरे अफगान शैली का प्रतिनिधित्व करते हैं। शेरशाह का मकबरा झील के मध्य में स्थित है। मकबरा अष्टकोणीय आकार में अफगान शैली में बना है। यहीं पर शेरशाह के पिता हसन खां सूर का मकबरा भी है। शेरशाह का मकबरा तो उसके जीवन काल में ही 1535 ई. में बनना आरंभ हो गया था, परन्तु इसका निर्माण 1545 ई. में इस्लाम शाह के समय में पूरा हुआ। यह मकबरा पूरे इंडो-इस्लामिक स्थापत्य-कला के सर्वोत्तम नमूनों में एक है। इस्लाम शाह भी शेरशाह की तरह ही अपना मकबरा सासाराम (सहसराम) में ही बनवाना चाहता था, जिसके लिए शेरशाह के मकबरे के उत्तर-पश्चिम में अपूर्ण इमारत अब भी मौजूद है। परन्तु इस्लाम शाह की यह इच्छा पूर्ण न हो सकी, क्योंकि उसकी हत्या ग्वालियर में हो गई और किसी ने उसकी अन्तिम इच्छा पूर्ण करने की जरूरत नहीं समझी।

3) इल्तुतमिश ने 1225 के लगभग किसे पराजित कर बिहार पर अधिकार किया था ?

A) मलिक अलाउद्दीन जानी
B) दौलतशाह खिलजी
C) हस्मुद्दीन इवाज खिलजी
D) उपर्युक्त में कोई नहीं

Answer : C
Description : दिल्ली में जब इल्तुतमिश सुल्तान बना तो प्रारम्भ में वह बिहार की ओर ध्यान देने में असफल रहा, परंतु 1225 ई. में उसका इसी समय राजमहल की पहाड़ियों में तेलियागढ़ी के पास हस्मुद्दीन इवाज खिलजी की सेना से सामना हुआ, जिसका अन्त इवाज द्वारा इल्तुतमिश की अधीनता की स्वीकारोक्ति में हुआ। इसी समय बिहार पर इवाज को अपना अधिकार छोड़ना पड़ा एवं इल्तुतमिश ने मलिक अलाउद्दीन जानी को बिहार में दिल्ली के प्रथम प्रतिनिधि के रूप में नियुक्त किया। परन्तु शीघ्र ही इवाज ने मलिक जानी को बिहार से मार भगाया, लेकिन इल्तुतमिश के पुत्र नसीरुद्दीन महमूद ने, जो अवध का गवर्नर था, प्रत्युत्तर हमला कर इवाज को गिरफ्तार कर लिया एवं मार डाला। उसने अवध, बिहार एवं लखनौती को मिलाकर एक कर दिया एवं 1227-29 की अवधि में यहाँ शासन किया।

4) राजा मान सिंह को बिहार प्रांत का प्रांतपति किसने नियुक्त किया था-

A) औरंगजेब
B) हुमायूँ
C) अकबर
D) जहाँगीर

Answer : C
Description : अकबर द्वारा 1587 ई. में राजा मानसिंह को बिहार प्रांत का प्रांतपति नियुक्त किया गया। 1589 ई. में जब राजा भगवान दास की मृत्यु हो गई तो मान सिंह को ‘राजा’ की पदवी दी गई एवं पाँच हजारी मनसब भी प्रदान किया गया। भगवान राजा मान सिंह ने रोहतास को अपनी राजधानी बनाया।

5) बिहार में शांति व्यवस्था स्थापित करने के बाद राजा मानसिंह ने उड़ीसा पर कब आक्रमण किया था ?

A) 1590 ई.
B) 1595 ई.
C) 1596 ई.
D) 1599 ई.
Answer : A
Description : बिहार में शान्ति व्यवस्था स्थापित करने के उपरांत राजा मानसिंह ने उड़ीसा (ओडिशा) पर 1590 ई. में आक्रमण किया। इस आक्रमण में बंगाल के सूबेदार एवं अधिकारियों ने भी सहायता दी। यह आक्रमण सफल रहा एवं उड़ीसा पर मुगलों ने अधिकार कर लिया।

6) शेरशाह को शेर खाँ की उपाधि किसने दी थी?

A) मुहम्मद नूहानी ने
B) हसन खाँ ने
C) दरिया खाँ नूहानी ने
D) इस्लाम शाह ने

Answer : A
Description : शेरशाह का जन्म 1472 ई. में का बजवाड़ा (होशियारपुर) में हुआ था। पाय इनके बचपन का नाम फरीद खाँ था। फरीद (शेरशाह) ने एक शेर को तलवार के एक ही वार से मार दिया था। उसकी इस बहादुरी से प्रसन्न होकर बिहार के अफगान शासक सुल्तान मुहम्मद बहार- खाँ लोहानी (नूहानी) ने उसे शेर खाँ की उपाधि प्रदान की।

7) कर्नाट वंश का अंतिम शासक कौन था?

A) शिव सिंह
B) हरि सिंह
C) नरसिंह सिंह
D) शक्ति सिंह

Answer : B
Description : पाल शासक रामपाल के समय में मिथिला के क्षेत्र में कर्नाट राजवंश (1097-1324 ई.) का उदय हुआ इस वंश के संस्थापक राजा नान्यदेव थे। 1324 ई. में बंगाल अभियान से वापसी पर गयासुद्दीन तुगलक ने कर्नाट वंश के शासक हरिसिंह पर आक्रमण किया। इस युद्ध में सम्राट हरिसिंह की पराजय हुई तथा कर्नाट वंश का अंत हो गया। इस प्रकार सम्राट हरिसिंह कर्नाट वंश के अंतिम शासक साबित हुए।

8) निम्न में से कौन सल्तनत काल में बिहार का राज्यपाल नहीं रहा था?

A) तुगान खाँ
B) सैफुद्दीन ऐबक
C) हातिम खाँ
D) मुबारिज खाँ

Answer : D
Description : सामान्य तौर पर माना जाता है कि बिहार पर आक्रमण करने वाला प्रथम तुर्क बख्तियार खिलजी था। इल्तुतमिश ने 1225 में मलिक अलाउद्दीन जानी को बिहार में दिल्ली के प्रथम प्रतिनिधि के रूप में नियुक्त किया। 1229-30 ई. में इल्तुतमिश ने बिहार एवं बंगाल को पुनः अलग-अलग किया एवं अलाउद्दीन जानी को बंगाल का गवर्नर एवं सैफुद्दीन ऐबक को बिहार का राज्यपाल नियुक्त किया। बाद में फिर तुगान खाँ बिहार का राज्यपाल बना। रुक्नुद्दीन कैकाउस की मृत्यु के पश्चात् दक्षिण बिहार पर लखनौती का नियंत्रण कमजोर हुआ एवं उनके गवर्नर फिरोज ऐतगीन ने सुल्तान शम्सुद्दीन फिरोजशाह के नाम से एक नए राजवंश की स्थापना की। इस समय फिरोजशाह का एक पुत्र हातिम खाँ (1309-15 ई.) बिहार का गवर्नर था।

9) दरभंगा में एक दुर्ग एवं जामा मस्जिद का निर्माण करवाने वाला सुल्तान कौन था?

A) गयासुद्दीन तुगलक
B) फिरोज तुगलक
C) मोहम्मद बिन तुगलक
D) अलाउद्दीन खिलजी

Answer : C
Description : दरभंगा में एक दुर्ग एवं जामा मस्जिद का निर्माण करवाने वाला सुल्तान मुहम्मद बिन तुगलक था। मुहम्मद बिन तुगलक के समय में भी बिहार पर दिल्ली का नियंत्रण बना रहा। इस समय तिरहुत सिक्का जारी करने वाला शहर बन गया था। यहाँ से मुहम्मद बिन तुगलक के सिक्के भी प्राप्त हुए हैं। मुल्ला तकिया भी इस बात की पुष्टि करता है एवं साथ ही बताता है कि दरभंगा का नाम तुगलकपुर कर दिया गया था।

10) तिरहुत के मुख्य क्षेत्र में कर्नाटों के स्थान पर किस वंश का राज्य स्थापित हुआ था?

A) मिथिलावंश
B) मल्ल वंश
C) कोइलवरवंश
D) आइनवारा वंश

Answer : D
Description : हरिसिंह के पश्चात् कर्नाट वंश का क्या हुआ, निश्चित रूप से कुछ नहीं कहा जा सकता। ऐसा माना जाता है कि हरिसिंह के पश्चात् क्रमशः मतिसिंह, शक्तिसिंह और श्यामसिंह राजा हुए, परन्तु इनका शासन निचले मैदानी इलाके से तिरहुत के मुख्य क्षेत्र में कर्नाटों के स्थान पर वंश का राज्य स्थापित हुआ। ऐसा प्रतीत होता है कि हरिसिंह के वंशज लगभग 1393 ई. तक अपने अस्तित्व के लिए संघर्षरत रहे। विद्यापति के ‘कीर्तिलता’ के अनुसार हरिसिंह के पश्चात् मिथिला में राजनीतिक अराजकता का माहौल बना रहा, जो लगभग 30 वर्षों तक रहा।

11) शेर खाँ बिहार के किस शासक का संरक्षक नियुक्त हुआ था?

A) दरिया खाँ
B) जलाल खाँ
C) इस्लाम खाँ
D) बहार खाँ

Answer : B
Description : बिहार के इतिहास में नूहानी वंश का महत्वपूर्ण स्थान है। बहार खाँ लोहानी बिहार का मध्य 1522 ई. में बिहार का शासक बना एवं सुल्तान मुहम्मद का पदवी धारण करके दिल्ली सल्तनत से अपनी स्वतंत्रता घोषित कर दी। इब्राहिम लोदी की पराजय के पश्चात् सुल्तान मुहम्मद का विस्तार बिहार के कन्नौज तक था। इसी समय इब्राहिम लोदी बाबर से लड़ते हुए पानीपत के युद्ध में मारा गया। संभवतः सुल्तान मुहम्मद ने बाबर की अधीनता स्वीकार कर ली थी। 1528 के आसपास सुल्तान मुहम्मद की मृत्यु हो गई। उसके पश्चात् उसका अल्पव्यस्क पुत्र जलालुद्दीन अथवा जलाल खाँ शासक नियुक्त हुआ एवं फरीद खाँ अथवा शेर खाँ उसका संरक्षक नियुक्त हुआ।

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*