Haryana GK MCQ Questions in Hindi {राष्ट्रीय आंदोलन में भूमिका}

Haryana GK MCQ Questions in Hindi
Haryana GK MCQ Questions in Hindi

Haryana GK MCQ Questions in Hindi हेल्लो स्टूडेंट ! अगर आप हरियाणा जीके की तैयारी कर रहे है तो हम आपके लिए राष्ट्रीय आंदोलन में भूमिका  टॉपिक से सम्बंधित क्वेश्चन लेकर आये हैं| जहाँ पर आपको बहुत सारे Haryana GK MCQ Question मिलेंगे|

Haryana GK MCQ Questions in Hindi

1) 30 सितम्बर, 1803 को दौलतराव सिन्धिया ने किस सन्धि के तहत हरियाणा को ब्रिटिश ईस्ट इण्डिया कम्पनी को सौंप दिया?

A) सुर्जी अर्जन गाँव की सन्धि
B) श्रीरंगपट्टनम की सन्धि
C) छछरौली की सन्धि
D) उपर्युक्त में से कोई नहीं

Answer : A
Description : सुर्जी अर्जन गाँव की संधि 30 दिसम्बर, 1803 ई. को ब्रिटिश एवं मराठा प्रमुख दौलत राव सिन्धिया के मध्य हुआ था। इस संधि के द्वारा मराठों का गंगा-यमुना दोआब, दिल्ली आगरा क्षेत्र, बुन्देलखण्ड का क्षेत्र, भरुच तथा अहमद नगर का किला अंग्रेजों के अधीन आ गया। यह संधि दो बार परिवर्तित की गई पहला 1805 ई. में तथा दूसरा 1817 ई. में, इन दोनों परिवर्तनों द्वारा कुछ नए प्रावधान तथा शर्ते जोड़ी गई।

2) नारनौल के समीप नसीबपुर नामक गाँव में लड़े गए (स्वाधीनता-संग्राम के) युद्ध में अग्रेजों ने किस तीन शक्तियों को नष्ट किया था?

A) रेवाड़ी, झज्जर और जोधपुर
B) गुड़गाँव, रेवाड़ी और जोधपुर
C) जीन्द, जगाधरी और पेहोवा
D) पानीपत, झज्जर और तावडू

Answer : A
Description : नारनौल के समीप नसीबपुर नामक गाँव में लड़े गए स्वाधीनता-संग्राम के युद्ध में अग्रेजों ने एक साथ तीन शक्तियों को नष्ट कर दिया। जिसमें रेवाड़ी के रावतुलाराम सिंह, झज्जर का नवाब तथा जोधपुर रियासत भी शामिल थी। राव तुलाराम ने 1857 के विद्रोहीयों की धन और अस्त्र-शस्त्रों से सहायता की थी। खुद भी हथियार लेकर अग्रेजों से कई लड़ाईयाँ लड़ी।

3) हरियाणा के रामकृष्ण गोपाल वीर सेनानी मेरठ क्रांति के समय किस शहर के नायब कोतवाल थे?

A) मेरठ
B) मुजफ्फरनगर
C) दिल्ली
D) गाजियाबाद

Answer : A
Description : रामकृष्ण गोपाल 10 मई, 1857 ई. को मेरठ क्रांति के समय मेरठ के नायब कोतवाल थे। क्रांति के समय ये वहाँ क्रांतिकारियों का नेतृत्व भी किए थे।

4) निम्न में से किसने 1857 ई. की क्रांति के दौरान अंग्रेजों का सबसे मुखर विरोध किया?

A) लुहारु रियासत
B) पटौदी रियासत
C) दुजाना रियासत
D) इनमें से कोई नहीं

Answer : D
Description : 10 मई, 1857 ई. की क्रांति का प्रारम्भ मेरठ छावनी में सैनिकों के विद्रोह से प्रारम्भ हुआ। विद्रोही सौनिकों ने दिल्ली पर तथा उसके आस-पास के क्षेत्रों पर अधिकार कर लिया। लेकिन अग्रेजों ने धैर्य से काम लिया और देशी रियासत जिनमें लुहारु रियासत, पटौदी रियासतों, दुजाना रियासत, जींद रियासत आदि के सहयोग से शीघ्र ही विद्रोह को कुचल दिया।

5) हरियाणा में किस वर्ष में आए अकाल को ‘नबिया अकाल’ कहा जाता है?

A) 1803 ई.
B) 1812-13 ई.
C) 1817-18 ई.
D) 1833-34 ई.

Answer : D
Description : हरियाणा में 1833-34 ई. में आए अकाल को नबिया अकाल के नाम से जानते हैं। वैसे भारत के इतिहास में अकाल की अनगिनत घटनाएँ हुई हैं, लेकिन उनमें बंगाल का अकाल सबसे भीषण था। इसमें लाखों लोगों की मौत हुई थी। इन सभी बड़े अकालों का समय अंग्रेजी शासन के समय का ही है।

6) आंग्ल-मराठा युद्ध (1803) में कम्पनी की सहायता के प्रतिफल के रुप में कम्पनी ने सरधना की बेगम समरु को कौन-से क्षेत्र दिए?

A) कुंजपुरा एवं जीन्द के कुछ गाँव
B) थानेसर एवं लाडवा के कुछ गाँव
C) करनाल एवं गुड़गाँव के कुछ गाँव
D) शामगढ़ एवं अग्रोहा के कुछ गाँव

Answer : C
Description : आंग्ल-मराठा युद्ध (1803) में कम्पनी की सहायता जिन-जिन रियासतों, नवाबों ने की थी, युद्ध जीतने के बाद जीते हुए क्षेत्र को कम्पनी के अंतिम अधिकार अपने पास रखकर उन नवाबों या रियासतों में बाँट दिया। सरधना की बेगम समरु ने भी इस युद्ध में अंग्रेजों का साथ दिया था। अतः उसे भी करनाल एवं गुड़गाँव के कुछ गाँव अंग्रेजों से मिले।

7) स्वामी दयानन्द सरस्वती ने 1880 ई. में हरियाणा में कहाँ आर्य समाज की शाखा की स्थापना की?

A) रेवाड़ी
B) हिसार
C) अम्बाला
D) पानीपत

Answer : A
Description : स्वामी दयानन्द सरस्वती ने 1875 में मुम्बई में आर्य समाज की नींव रखी। आर्य समाज एक हिन्दू सुधार आंदोलन था। आर्य समाज में शुद्ध वैदिक परम्परा में विश्वास किया जाता है। इसमें कर्मकाण्ड, मूर्तिपूजा, बलि आदि का कोई स्थान नहीं है। इसने छुआ-छूत, जातिगत भेद-भाव का विरोध किया। सभी को वेद पढ़ने का अधिकार दिया गया है। स्वामी दयानन्द सरस्वती द्वारा 1880 ई. में हरियाणा के रेवाड़ी में आर्य समाज की शाखा स्थापित की गई थी।

8) निम्न कथनों पर विचार कीजिए।

(1) कम्पनी ने हरियाणा को दो भागों में बाँट दिया, जिनमें प्रथम भाग का नियन्त्रण सीधे कम्पनी के हाथ में था।
(2) यह क्षेत्र दिल्ली के 60 किमी. उत्तर तथा 60 किमी. दक्षिण में फैला था।
(3) इस क्षेत्र में समालखा, टपुकड़ा, नूँह और हथिन को शामिल नहीं किया गया था
(4) इस क्षेत्र पर सीधे गवर्नर जनरल दखल देता था

उपर्युक्त कथनों में से कौन-से कथन सत्य है?

A) 1, 3 और 4
B) 2, 3 और 4
C) 1 और 3
D) 1 और 2

Answer : D
Description : (1) कम्पनी ने हरियाणा को दो भागों में बाँट दिया, जिनमें प्रथम भाग का नियन्त्रण सीधे कम्पनी के हाथ में था।
(2) यह क्षेत्र दिल्ली के 60 किमी उत्तर तथा 60 किमी. दक्षिण में फैला था।

9) भारत में किस आंदोलन के दौरान किसके बीच का क्षेत्र जनगणना-क्रान्ति के रंग में रंग गया था?

A) गंगा-यमुना
B) गंगा-सतलज
C) गंगा-बह्मपुत्र
D) इनमें से कोई नहीं

Answer : B
Description : असहयोग आन्दोलन की शुरुआत 1 अगस्त, 1920 को हुआ। जलियाँवाला बाग हत्याकाण्ड (13 अप्रैल, 1919) तथा ब्रिटिश सरकार द्वारा इसे उचित ठहराने की घटना ने पूरे भारत के आम जन की भावनाओं को हिलाकर रख दिया। इस घटना से गाँधीजी भी काफी आहत हुए तथा ब्रिटिश सरकार के खिलाफ असहयोग आन्दोलन प्रारम्भ किया। इस आन्दोलन में उन्हें लाला लाजपत राय का सहयोग मिला जिससे यह आन्दोलन जन आन्दोलन का स्वरुप धारण कर लिया। मेरठ, रोहतक, पानीपत अम्बाला, भिवानी आदि स्थानों पर लोगों ने सरकारी सम्मानों, पदकों, कॉलेजों, न्यायालयों का बहिष्कार कर दिया।

10) क्रान्ति का बिगुल हरियाणा में सर्वप्रथम कहाँ बजा?

A) रेवाड़ी
B) झज्जर
C) अम्बाला छावनी
D) हिसार

Answer : C
Description : अंबाला एक महत्त्वपूर्ण सैनिक छावनी था। यहाँ पर पंजाब एवं उत्तर पश्चिम प्रान्त के सौनिकों को प्रशिक्षण दिया जाता था। यहाँ के सैनिक एनफिल्ड राइफलों में प्रयोग होने वाले कारतूसों का विरोध कर रहे थे लेकिन जब अंग्रेज अधिकारियों पर उनके विरोध का कोई प्रभाव नहीं पड़ा, तब उन सैनिकों ने 10 मई, 1857 को विद्रोह की योजना बनाई, लेकिन अंग्रेज अधिकारियों के सतर्कता के कारण यह विद्रोह असफल रहा।

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*